Friday, May 1, 2015

Thar desert



विश्व के कुछ हिस्से में पानी अर्थात समुद्र हे और कुछ में धरती ।लेकिन धरती के कुछ हिस्से में भी कुछ जगह में मरुभूमि हे जैसे की सहारा का रेगिस्तान ,थार का रेगिस्तान।
कहा जाता हे की जब भगवान् राम ने समुद्र पर क्रोधित हो  कर के बाण चलाया था तो वह  उस स्थान पर गिरा था जहाँ पर से सारा पानी सूख गया था और वहाँ अभी थार का रेगिस्तान हे | यह भारत के पश्चिम में हे |इसकी सीमा पकिस्तान से मिलती हे सीमित बारिश एवं उच्च तापमान के कारण यहाँ की जीवन शैली बहुत ही कठिनाइयों से भरी होती हे

यहाँ के निवासी कम पानी में जिंदगी बसर करना अच्छी तरह से जानते हे |आज भी गांवों में पानी के लिए मीलों दूर जाना पड़ता हे |
इस के प्रमुख शहरों में जोधपुर,जैसलमेर एवं बीकानेर हे |

जोधपुर शहर को राव जोधाजी ने बसाया था

जोधपुर शहर पर्यटकों  का प्रमुख आकर्षण हे |राजस्थान किलों का और वीरों के इतिहास की भूमि हे |
जोधपुर का किला भी दर्शकों पर  अपनी अमिट छाप छोड़ता हे |एक पहाड़ी पर बसा हुआ हे |
इस किले के बनाने के साथ एक किंवदंती जुडी हे |इस पहाड़ी पर एक साधू तपस्या कर रहे थे |
राव जोधा के मजदूरों ने इनकी तपस्या भंग करने की कोशिश की |साधू ने क्रोधित हो कर शाप दे दिया की इस शहर में
हर तीसरे वर्ष अकाल पड़ेगा |कम बारिश होने की वजह से साधू की भविष्यवाणी सच होती रही हे |यहाँ पर साल में अधिक दिनों तक सूर्या देवता के दर्शन होने के कारण इसे सूर्यनगरी  के नाम से भी जाना जाता हे |
ummaid       भवन  palace जो अकाल पीड़ितों को राहत देने के लिए बनवाया गया था दर्शनीय स्थलों में से एक हे |जोधपुर में ही  पाए जाने वाले पत्थर से बना हुआ यह भवन बहुत ही सुंदर हे |
थार का मरुस्थल की वनस्पति भी अलग प्रकार की हे ।आधुनिक युग में तो कृषि वैज्ञानिको द्वारा किये गए शोध के कारण कुछ सब्जी एवं फल की खेती यहाँ पर भी होने लगी हे ।
पहले तो यहाँ के लोग आयातित वस्तुओं पर ही निर्भर करते थे ।
यहाँ की वनस्पति गवार बहुत ही उपयोगी हे ।गवार गम के नाम से     इसका निर्यात होता हे ।
गवार की खेती यहाँ बहुतायत से होती हे ।
केर भी यहाँ पर बहुतायत में उगते हे जिसकी मेडिसिनल वालू हे ।मधुमेह की बीमारी में उपयोगी हे ।
थोडा पश्चिम में जाते ही जैसलमेर हे जो अपने रेत
के टीलों के कारण विश्व भर में प्रसिद्ध हे ।यह शहर राव जैसल द्वारा

बसाया गया था ।किले के भीतर ही शहर के निवासी रहते हे ।

दुनिया के हर कोने से पर्यटक यहाँ पर आते हे इनका आनंद उठाने के लिए ।

यहाँ का पत्थर सुनहरे रंग का होता हे ।रेत और पत्थर दोनों ही सुनहर रंग के होने के कारण इस शहर को स्वर्ण नगरी के

नाम से जाना जाता हे ।इस पत्थर पर की गयी नक्काशी बहुत ही सुन्दर हे जो यहाँ के पुरानी इमारतों में देखने को मिलेगी ।व्यापारियों द्वारा बनवाई हुई हवेलियाँ हे जो अब पर्यटकों को अपनी और खींचती हे ।
जैन मंदिर जो की संगमरमर से बने हुए हे उनकी कला भी देखते ही बनती हे।
राव जोधा के बड़े पुत्र थे राव बीकाजी और इन्होने ही बीकानेर शहर बसाया था इस शहर का नाम दो शब्द यानि की
बिक और नेर से बना हे कहा जाता हे की इस भूमि जहाँ यह शहर बसाया गया उसका मालिक कोई नेरा नाम का व्यक्ति
था और उसने इस शर्त पर यह जमीन बीकाजी को दी थी की शहर का नाम उसके नाम पर रखा जाय

उसका नाम नेहरा था और इस तरह बिक और नेहरा की संधि से शहर का नाम बीकानेर रखा गया



Monday, April 27, 2015

Peethala(gluten free)

Many North Indian dishes are made by using besan as ingredient.This peethala is also made with besan and vegetables.This is a quick recipe.
ingredients

1 cup besan
2 1/2 cup  water
1 cup finely chopped vegetables( cauliflower flower,cabbage,potatoes beans and carrots)
1/2 cup green peas
1 teaspoon salt
1/2 teaspoon red chilli powder
1/4 teaspoon turmeric powder
2 tab spoon finely chopped green coriander and mint leaves
1 tabspoon chopped ginger
2 tabspoon fresh lemon juice
1 teaspoon jeera
1 teaspoon mustard seeds
A pinch of hing
1/4 teaspoon garam masala
3tabspoon oil

In a bowl make a batter of besan with water .Add salt,chilli powder,and chopped vegetables
In a thick bottomed pan pour oil and heat then add hing ,jeera,mustard seeds.When mustard seeds starts spluttering then pour the batter and stirr so as to avoid forming lumps.Add peas.
When it gets cooked then it will take a thick consistency. This will take 8 to 10 minutes.
Now add lemon juice,garam masala,ginger and chopped coriander.
Stir well and switch off the burner.Let it cool for 5 minutes and peethala is ready to serve.
This can be eaten with roti or paratha or as it is .
Good for those who have diabetes and those also having glutten  allergy.



Tuesday, April 14, 2015

Missi roti

Roti is staple food of most North Indian people.It is made out of whole wheat flour mixed with water and kneaded in dough.Then with the help of rolling pin can be rolled into round shape and baked directly on a hot griddle called tawa. This is the simple most roti.For a change we will make missi Roti which is made of different kind of flours like bajare,maze and wheat flour.

Ingredients

1 cup maze (Makka) flour
1cup whole wheat flour
1/2 cup bajara flour
 2.  teaspoon salt
1 teaspoon red chilli powder
1/2 teaspoon haldi powder
1/2. Teaspoon. Garam masala powder
1/8. Teaspoon hing powder
1 teaspoon. Sesame seeds
1 teaspoon ajwain

1/4 cup fresh fenugreek leaves chopped or 2 table spoon of dried kasturi methi

Mix all the ingredients and with water knead well to make a dough.divide into 8 equal parts.
Now on rolling board sprinkle dry flour and then with the help of rolling pin roll into round roti.
Rolling is somewhat tricky.These rotis are not as thin as whole wheat roti.q
On a hot tawa roast it and then apply ghee or butter .

Serve with fresh yogurt and pickle or chutneys.

Sunday, April 12, 2015

Roti

                                                 Roti
R

In different parts of country staple food is also different.Food of a particular place varies according  to the main crop of that region.Like northern part produces wheat so rotisserie made of wheat flour is the main food of north India.In southern region rice and tour dal is the main produce so their rice is
Main food.
These rotis  are also made in different ways but the most popular in northern India is roti made by kneading wheat flour with water.and then the dough made is rolled in round shape .baking on a griddle and later on direct fire or burner.
Every one knows this simple method but still there are few tips to make soft delicious rotis .
The main aim of writing this recipe is to let you know the trick.
Ingredients required
2 cups wheat flour
2/3 cups water
 In a bowl mix flour and water thoroughly to make the dough.Cover the bowl with a clean muslin cloth and keep aside for at least 15 minutes.
Knead it again to make the dough soft.
Divide the dough into 20 equal balls.Coat ball with dry flour and with the help of a rolling pin roll roti on  a rolling board.on a hot tawa (griddle)put roti after 30 seconds flip the side of the roti.After next 30 seconds take the tawa from the burner and roast the roti directly on the burner.
It will pop like a ball on burner within few seconds.Remove from the flame and apply ghee on it with a spoon.Calorie conscious can eat without ghee.Serve with your favorite sabji.


Tips
Softness of roti depends upon the consistency of dough.Soft dough will make soft roti.